Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem/BK NEWS BASAVAKALYAN 1458
Imran Pratapgarhi Emotional Eid PoemBK NEWS BASAVAKALYAN 1458

Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem/BK NEWS BASAVAKALYAN 1458

Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem/BK NEWS BASAVAKALYAN 1458

Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem/BK NEWS BASAVAKALYAN 1458
#Imran #Pratapgarhi #Emotional #Eid #PoemBK #NEWS #BASAVAKALYAN
Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem
Latest Eid Poem
Imran Pratapgarhi
Emotional Poem
Imran pratapgarhi best poem

ग़मज़दा होके भी मुस्कराये हैं हम
इस बरस ईद एैसे मनाये हैं हम !

चाहतों के हर एक सिलसिले के लिये
और मुहब्बत के हर क़ाफिले के लिये ।
अपनी ख़ुशियों से ज़्यादा ज़रूरी था ये
सारी इंसानियत के भले के लिये !

हाथ अपने दुआ को उठाये हैं हम
इस बरस ईद एैसे मनाये हैं हम !

दोस्त अहबाब से दूर रहना पड़ा
क्या कहें कितना मजबूर रहना पड़ा ।
ख़्वाब ख़ुशियों के जो थे सजाये हुए,
एैसे हर ख़्वाब को चूर रहना पड़ा ।

अपनी पलकों पे ऑंसू सजाये हैं हम
इस बरस ईद एैसे मनाये हैं हम !

हर तरफ़ बस उदासी की तम्हीद है
ना तेरा अक्स है ना तेरी दीद है ।
हम किसी से गले तक नहीं मिल सके
मेरे रब तू बता क्या यही ईद है ।

सिसकियों को जहॉं से छुपाये हैं हम
इस बरस ईद एैसे मनाये हैं हम !

अपनी धड़कन के हर थाप से दूर हूँ,
ईद का दिन है और आप से दूर हूँ !
सारी ख़ुशियॉं उदासी में लिपटी रहीं
ईद के रोज़ मॉं बाप से दूर हूँ !

मॉं के होते सिंवइयॉं बनाये हैं हम
इय बरस ईद एैसे मनाये हैं हम !
~इमरान प्रतापगढ़ी
#Imran #Pratapgarhi #Emotional #Eid #PoemBK #NEWS #BASAVAKALYAN
UCIwiorKhp3OowTJZTRZhamw
BK NEWS BASAVAKALYAN
Imran Pratapgarhi Emotional Eid Poem/BK NEWS BASAVAKALYAN 1458

Leave a Reply